हैदराबाद का एक राम भक्त अयोध्या के लिए पैदल यात्रा पर निकल पड़ा-

इस वक्त सभी भारतवासी भगवा रंग में रंग चुके हैं। सभी 22 तारीख को बड़े ही उल्लास के साथ दीवाली मनाएंगे। भक्तों का प्यार एक कठोर डोर के रूप में देखने को मिलेगा। हमारे देश में कई सारे ऐसे राम भक्त हैं जो दिन रात केवल राम नाम के सहारे ही जीते हैं। मतलब उनका प्रातः राम सुबह राम सोते समय राम जागते समय राम ऐसे कई सारे भक्त भारत में प्रेम मगन में भगवान की भक्ति में डूबे हुए रहते हैं। ठीक आज के आर्टिकल में हम एक ऐसे ही हैदराबाद के अपूर्व राम भक्त की चर्चा करने वाले हैं। जिन पर राम जी की धुन सवार है। चलिए आगे विस्तार से जानते हैं-

Advertisement

 

हैदराबाद का एक राम भक्त अयोध्या के लिए पैदल यात्रा पर निकल पड़ा-

खबरों के अनुसार यहां रामभक्त हैदराबाद का रहने वाला है और इसकी उम्र करीब 64 साल है। इसे राम भक्त का नाम चल्ला श्रीनिवास शास्त्री हैं और यह 8000 किलोमीटर की पैदल यात्रा पर निकल चुके हैं। मतलब इनकी जिद यहां बन चुकी है कि यह अयोध्या पहुंचकर ही रहेंगे चाहे कुछ भी हो जाए। अब से उनकी एक 8000 किलोमीटर की लंबी यात्रा शुरू हो चुकी है। साथ में वे अपने सिर पर भगवान जी की चरण पादुका रखकर सीना तान कर आगे बढ़ चुके हैं। बताया जा रहा है कि इन चरण पादुका पर सोने की परत चढ़ी हुई है। इनकी कीमत लगभग 64 लाख रुपए हैं।

शास्त्री जी ने इससे पूर्व राम मंदिर निर्माण में चांदी की पांच ईंटें भी दान की है-

बताया जा रहा है कि शास्त्री जी ने इससे पूर्व राम मंदिर निर्माण में चांदी की पांच ईंटें भी दान की है। इस वक्त शास्त्री जी अयोध्या रामेश्वर मार्ग से अपनी यात्रा को तय कर रहे हैं। यहां बहुत ही अद्भुत बात है क्योंकि भगवान राम जी ने भी वनवास के दौरान इसी मार्ग से अपनी यात्रा को तय किया था। शास्त्री जी ने कहां है कि वह उन सभी शिवलिंगों का दर्शन भी करेंगे जिनको श्री राम जी ने स्थापित किया है। दोस्तों आपको जानकर हैरानी अब होगी क्योंकि उनकी यात्रा आज से कई समय पहले मतलब 20 जुलाई को शुरू हुई थी। अब केवल इनका एक ही मकसद है अगले 10 दिन में अयोध्या किसी भी हालत में पहुंचना। इनके दृढ़ संकल्प के पीछे साक्षात भगवान श्री राम जी की ही कृपा रही है । सोने की चरण पादुका जिसको पंच धातु से बनाया गया है उसको शास्त्री जी सर पर रखकर 8000 किलोमीटर की पदयात्रा के अंतिम मोर्चे पर पहुंचने वाले हैं।

 

Advertisement

Leave a Comment