Joystick क्या है? इसके प्रकार, फायदे और हानियां बताये। हिंदी में-

जैसे-जैसे समय बीत रहा है वैसे ही बहुत सी टेक्नोलॉजी विकसित होती जा रही है। मॉडर्न जमाने में प्रत्येक क्षण टेक्नोलॉजी की बहुत जरूरत होती है ये टेक्नॉलाजी दैनिक जीवन की एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन चुकी है। आज तो लोगों के पास ऐसी-ऐसी सुविधाएं हर समय तत्पर रहती है जिन्हें यूज़ करना काफी आसान है।

Advertisement

Joystick भी इन्हीं टेक्नोलॉजी में से एक है। जिसके बारे में हम संपूर्ण जानकारी जानने की पूरी कोशिश करेंगे तो आइए दोस्तों बिना देर करें जानते हैं-

 

Joystick क्या है?

Joystick मुख्य रूप से हार्डवेयर डिवाइस होता है। इसका आविष्कार सन 1926 में C. B. Mirick ने US Naval Research Laboratory में किया गया था। जॉयस्टिक को एक इनपुट डिवाइस कह सकते हैं जिसका कार्य कंट्रोल करने का होता है। ज्यादातर इसको गेमिंग के लिए इस्तेमाल किया जाता है किंतु इसको कंप्यूटर में माउस तथा कीबोर्ड की जगह भी यूज कर सकते हैं। इतना ही नहीं जॉयस्टिक को ड्रोन में भी यूज किया जाता है ड्रोन को कंट्रोल करने के लिए इसमें बटन होते हैं। जिसके माध्यम से ही नियंत्रण होता है। जॉयस्टिक कई प्रकार के होते हैं और इनमें एक gear जैसी स्टिक लगी हुई होती है। इसी स्टिक के हेल्प से सभी कार्य होते हैं। जॉयस्टिक को कंप्यूटर के साथ में जोड़ने के लिए डायरेक्ट ही सीरियल पोर्ट या USB कनेक्शन का सहारा लिया जाता है।

 

Joystick के प्रकार क्या है?

जॉयस्टिक के कई सारे प्रकार होते हैं लेकिन कुछ विशेष प्रकारों के बारे में नीचे जानकारी दी गई है चलिए विस्तार से जानकारी जानते हैं-

1. Digital Joystick-

यहां बिल्कुल डिजिटल रूप में होती है इसका उपयोग गेम्स को कंट्रोल करने में होता है। और इसको दाय-बाय, ऊपर-नीचे चारों दिशाओं में घूमा सकते हैं। गेम को कंट्रोल करने में भी इस डिजिटल जॉयस्टिक का उपयोग बहुत ही उचित है।

2. Paddle Joystick-

इसका ज्यादातर उपयोग गेम्स में कंट्रोल के लिए किया जाता है। यह पुराने मॉडल में होते हैं। इसका उपयोग करना बहुत ही आसन है इसके अंदर एक एनालॉग लगा हुआ होता है जिसको सामान्य भाषा में गुंडी कहते हैं। जिसकी हेल्प से ही गेम को कंट्रोल किया जाता है।

3. Analog Joystick-

इस टाइप के जॉयस्टिक में Digital एवं Paddle जॉयस्टिक दोनों के फीचर्स देखने को मिलते हैं। मतलब कि इसमें दोनों जॉयस्टिक के गुण होते हैं। इसको गेम में कंट्रोलर के रूप में यूज किया जाता है। इसके द्वारा गेम खेलने में एक अलग ही मजा आता है।

4. PC Analog Joystick-

यहां जॉयस्टिक एक मॉडर्न जमाने का जॉयस्टिक है जिसको IBM कंपनी के द्वारा डेवलप किया गया है। इसको सबसे पहले IBM कंपनी ने अपने पर्सनल कंप्यूटर में यूज करने के पश्चात पेश किया था। कंप्यूटर में इसको कनेक्ट करने के लिए USB केबल या ब्लूटूथ की हेल्प ली जाती है। इसमें कई टाइप के बटन अवेलेबल होते हैं तथा यहां गेमिंग के लिए बहुत ही बेस्ट ऑप्शन है।

5. Joypads-

इसको आज मॉडर्न जमाने में मॉडर्न गेम्स के लिए यूज किया जाता है। यहां गेमिंग के लिए बहुत ही बेस्ट है क्योंकि यहां चारों दिशाओं में घूम सकता है। इसको एक तरह से pad कह सकते हैं क्योंकि इसमें sticks नहीं होती है।

 

Joystick के फायदे कौन-कौन से है?

जॉयस्टिक के कुछ फायदे के बारे में निम्नलिखित जानकारियां दर्शाई गई है-

• जॉयस्टिक कंप्यूटर में 2 in 1 का कार्य करता है मतलब आप माउस और कीबोर्ड की जगह जॉयस्टिक का यूज कर सकते हैं।
• किसी भी गेम को कंट्रोल करने में जॉयस्टिक बहुत ही फायदेमंद होता है।
• जॉयस्टिक की कार्य करने की क्षमता बहुत ही अच्छी होती है।
• जॉयस्टिक को कोई भी नया व्यक्ति आराम से ऑपरेट कर सकता है।
• इनका वजन भी ज्यादा नहीं होता है।
• जॉयस्टिक को आज प्रजेंट टाइम में 3-D तरह से भी इस्तेमाल किया जा सकता है।
• जॉयस्टिक से गेम प्ले करने में बड़ी ही सरलता होती है गेम्स को सही और बेहतर ऑपरेट कर सकते हैं। साथ में टाइम की भी बचत होती है।

 

Joystick से क्या हानियां होती है?

जॉयस्टिक एक तरह से अच्छा भी है तो एक तरह से बुरा भी है क्योंकि इससे कुछ हमारी हानियां भी होती है जिनके बारे में नीचे विस्तार से बताया गया है।

• जॉयस्टिक का ज्यादा समय तक यूज करने से उंगली, अंगूठे व हाथ में दर्द होने लगता है।
• जॉयस्टिक मजबूती के मामले में सक्षम नहीं है यूजर द्वारा ज्यादा जोर लगाने से जॉयस्टिक टूट भी सकते हैं।
• कंप्यूटर में ऑपरेट करने में कुछ नए व्यक्ति को परेशानी का सामना भी करना पड़ सकता है।

 

कंप्यूटर Joystick पोर्ट के बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां-

जॉयस्टिक को कंप्यूटर में कनेक्ट करने के लिए नीचे कुछ तरीके बताए गए हैं चलिए जानते हैं-

1. Game Port
2. Bluetooth
3. Serial ports
4. USB ports

इन कुछ तरीकों के द्वारा आप जॉयस्टिक को कंप्यूटर से जोड़ सकते हैं और सिंपली यूज कर सकते हैं।

➤ हां भी जानें- Drone क्या है?इसके प्रकार,उपयोग,कैसे उड़ाते है और इसमें कौन-कौन से फीचर्स होते हैं?

 

सारांश-

दोस्तों इस आर्टिकल की मदद से आप जान गए होंगे कि Joystick क्या है? आशा करता हूं कि आपको सभी जानकारी पसंद जरूर आई होगी। इन सभी जानकारियों को अपने Friends, Family के साथ जरूर शेयर करें और आपका अगर कोई सा भी कन्फ्यूजन हो तो Comment करके निसंकोच पूछ सकते हैं।
Thank you

 

कुछ FAQ-

Q.1 Joystick का उपयोग क्या है?
Ans. Joystick को एक इनपुट डिवाइस कह सकते हैं जिसका कार्य कंट्रोल करने का होता है। ज्यादातर इसको गेमिंग के लिए इस्तेमाल किया जाता है किंतु इसको कंप्यूटर में माउस तथा कीबोर्ड की जगह भी यूज कर सकते हैं। इतना ही नहीं जॉयस्टिक को ड्रोन में भी यूज किया जाता है।

Q.2 Joystick सॉफ्टवेयर है या हार्डवेयर?
Ans. Joystick मुख्य रूप से हार्डवेयर डिवाइस होता है।

Q.3 Joystick का आविष्कार किसने किया?
Ans. इसका आविष्कार सन 1926 में C. B. Mirick ने US Naval Research Laboratory में किया गया था। जॉयस्टिक को एक इनपुट डिवाइस कह सकते हैं।

Advertisement

Leave a Comment