HDD और SSD में क्या अंतर है?

दोस्तों आज का विषय बहुत ही खास है‌ एवं आपके लिए बहुत ही उपयोगी हो सकता है। गुजरते वक्त के साथ निरंतर बहुत सारी सुविधाएं बढ़ती जा रही है। आज का समय बहुत ही बदल चुका है। पिछले समय की बात करें तो उस समय इतनी सुविधाएं मौजूद नहीं थी। परंतु आज के टाइम में सब कुछ संभव है। आज बहुत प्रकार की सुविधाएं हम सभी के लिए हर समय तत्पर रहती है। जिनका हमने कभी भी आइडिया नहीं लगाया था।

Advertisement

इस article में हम बात करेंगे कि HDD और SSD में क्या अंतर है? तथा इससे संबंधित संपूर्ण जानकारियां बिना Time waste करे नीचे विस्तार से जानते हैं –

 

HDD और SSD में क्या अंतर है?

HDD और SSD में बहुत प्रकार के अंतर देखने को मिलते हैं चलिए आसान शब्दों में जानते हैं-

1. Speed –

HDD में स्पीड बहुत ही कम देखने को मिलती है यहां कई मिनट के वक्त में pc या laptop में boot होता हैं तो वही SSD में काफी ज्यादा फास्ट स्पीड मिलती है और boot होने में कुछ ही सेकंड लगते हैं।

2. Price –

HDD की कीमत बहुत ही कम होती है वहीं SSD बहुत महंगे होते हैं।

3. Storage Capacity –

HDD में यूजर को स्टोरेज कैपेसिटी ज्यादा मिलती है मैक्सिमम 500GB से लेकर 10TB तक होती है लेकिन SSD में कम मिलती है मिनिमम 4TB, यहां फास्ट परफॉर्मेंस के लिए अच्छा विकल्प है।

4. Noise –

HDD विशेष रूप से घूमने वाली डिस्क तो होती ही है साथ में रीड/राइट हेड की वजह से शोर उत्पन्न करती है वहीं अगर SSD की बात करें तो इसमें बिल्कुल साइलेंट मोड होता है। HDD जैसी प्रोसेस SSD में नहीं होती है।

5. Find files –

HDD में फाइल को सर्च करना काफी मुश्किल भरा होता है। मतलब फाइल को सर्च करने में बहुत समय लग सकता है किंतु SSD में आप बड़े से बड़े फाइलों को कुछ ही सेकंड में ढूंढ सकते हैं।

6. Heat Produced –

HDD अत्यधिक हिट पैदा करती है इसमें मूविंग पार्ट्स होने की वजह से हिट पैदा होती रहती है परंतु SSD में कोई भी मूविंग पार्ट्स लग नहीं होते हैं जिस वजह से इसमें बहुत ही काम हिट पैदा होती है।

 

HDD क्या है?

HDD यहां एक स्टोरेज ड्राइव के रूप में होता है इसका फुल फॉर्म “Hard Disk Drive” होता है। इसका सन 1956 में IBM द्वारा अविष्कार हुआ था। इसका मेन वर्क कंप्यूटर में डाटा को स्टोर करने का होता है। इसमें मूविंग पार्ट्स होते हैं और डाटा को लिखने और पढ़ने के लिए spinning platter होती है और यहां बिल्कुल घूमती रहती हैं। जितने तेज गति से ये spinning platter घूमती है ठीक उतनी ही गति से डाटा read और write होता हैं। यहां एक तरह से मैकेनिकल डिवाइस है। इसका यूज डेस्कटॉप व लैपटॉप में डाटा स्टोर के लिए होता है। यहां टेक्नोलॉजी बहुत ही पुरानी है किंतु आज के टाइम पर सस्ती भी हो चुकी है। जिस वजह से यूजर्स इसको बहुत पसंद भी करते हैं। इसकी विशेषता यहां है कि ये बड़े स्टोरेज कैपेसिटी के अलावा भी कई सारे डेटा को स्टोर करने में भी सक्षम है। आज के समय में जो HDD मिलती है वह मैक्सिमम 5400 rpm और 7200 rpm speed में अवेलेबल हो जाती हैं।

 

HDD के लाभ क्या है?

HDD के कुछ लाभ निम्नलिखित दशाएं गए हैं-

• HDD बजट में बहुत ही सस्ती है आराम से कम पैसे से इसका यूज कर सकते हैं।
• किसी भी यूजर को अगर ज्यादा स्टोरेज स्पेस की जरूरत होती है तो उन यूजर्स के लिए HDD एक बेहतर विकल्प होगा।
• HDD को लॉन्ग टाइम तक यूज किया जा सकता है और इसकी स्पीड भी जैसी की जैसी ही बनी रहती है।

 

HDD से क्या नुकसान है?

HDD के यूज से कुछ हनिया का भी सामना करना पड़ता है चलिए जानते हैं।

• HDD का डैमेज होने का खतरा रहता है। मतलब यहां अगर गलती से गिर जाए तो डैमेज होने की पूर्ण संभावना होती है।
• HDD में स्पीड की कमी महसूस होती हैं।
• HDD में बिजली की ज्यादा जरूरत होती है मतलब इसमें बिजली खपत अधिक होता है।

 

SSD क्या है?

SSD जिसका पूरा नाम “Solid State Drive” होता है यहां भी एक तरह से स्टोरेज ड्राइव होती हैं। यहां भी कंप्यूटर में डाटा को स्टोर करने के लिए यूज होती है। यहां एक तरह से इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है। इसमें किसी भी तरह के मूविंग पार्ट्स का इस्तेमाल नहीं होता है। इसमें डाटा को read और write इलेक्ट्रॉनिक रूप से करते हैं। इसमें डाटा चिप में ही स्टोर होता है। इसके फीचर्स, परफॉर्म और क्वालिटी की बात करें तो अन्य ड्राइव के मुकाबले बहुत ही एडवांस लेवल के होते हैं। इसकी प्रक्रिया बहुत ही फास्ट होती हैं। आज के समय में इसकी उपयोगिता बढ़ती जा रही है कारण इसकी फास्ट स्पीड, अत्यधिक सुरक्षित विशेषता जिस वजह से ये लोगों के मन को भा रही है। HDD के मुकाबले SSD की प्राइस बहुत ही एक्सपेंसिव होती है किंतु साइज में दोनों ही समान होती है। SSD डाटा को एक स्थान से दूसरे स्थान तक ट्रांसफर करने में बहुत ही कम समय लेती हैं जिस वजह से कंप्यूटर भी फार्स्ट वर्क कर पता है।

 

SSD के लाभ क्या है?

SSD के कुछ लाभ निम्नलिखित दशाएं गए हैं-

• SSD स्पीड के मामले में बहुत ही फास्ट है। बड़ी-बड़ी फाइलों को लोड करना व ट्रांसफर करना इसके लिए एक तरह से स्पीड का खेल है।
• इसमें बिजली की खपत कम होती है।
• SSD कम वजन में और साइज में भी कम आते हैं इस वजह से इन्हें डिवाइस में पोर्टेबल करना आसान होता है।

 

SSD के नुकसान क्या है?

SSD के यूज से कुछ हानि भी होती हैं चलिए जानते हैं-

• SSD प्राइस की तुलना में बहुत ही एक्सपेंसिव होते हैं।
• SSD महंगी होने के कारण इसमें बहुत ही काम स्टोरेज उपलब्ध हो पता है।
• अभी जो लेटेस्ट लैपटॉप या कंप्यूटर मॉडल है उनमें expansion slot की कमी नजर आती है जिस वजह से उनमें SSD यूज करने के काबिल नहीं है।

➤ यहां भी जानें- Graphics Card क्या है? इसका क्या काम रहता है? हिंदी में-

 

सारांश-

दोस्तों इस आर्टिकल की मदद से आप जान गए होंगे कि Cache Memory क्या है? आशा करता हूं कि आपको सभी जानकारी पसंद जरूर आई होगी। इन सभी जानकारियों को अपने Friends, Family के साथ जरूर शेयर करें और आपका अगर कोई सा भी कन्फ्यूजन हो तो Comment करके निसंकोच पूछ सकते हैं।
Thank you

 

कुछ FAQ-

Q.1 SSD का क्या काम होता है?
Ans. SSD जिसका पूरा नाम “Solid State Drive” होता है यहां भी एक तरह से स्टोरेज ड्राइव होती हैं। यहां भी कंप्यूटर में डाटा को स्टोर करने के लिए यूज होती है। यहां एक तरह से इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है। इसमें किसी भी तरह के मूविंग पार्ट्स का इस्तेमाल नहीं होता है।

Q.2 HDD क्या है?
Ans. HDD यहां एक स्टोरेज ड्राइव के रूप में होता है इसका फुल फॉर्म “Hard Disk Drive” होता है। इसका सन 1956 में IBM द्वारा अविष्कार हुआ था। इसका मेन वर्क कंप्यूटर में डाटा को स्टोर करने का होता है। इसमें मूविंग पार्ट्स होते हैं और डाटा को लिखने और पढ़ने के लिए spinning platter होती है

Q.3 HDD और SSD में क्या अंतर है? इन हिंदी
Ans. HDD में स्पीड बहुत ही कम देखने को मिलती है यहां कई मिनट के वक्त में pc या laptop में boot होता हैं तो वही SSD में काफी ज्यादा फास्ट स्पीड मिलती है और boot होने में कुछ ही सेकंड लगते हैं।

 

Advertisement

Leave a Comment