CVV Number क्या होता है क्यों जरुरी है? फायदे और नुकसान बताये। हिंदी में-

 

हेलो फ्रेंड्स आज हम इस टॉपिक में एक ऐसे इंर्पोटेंट सब्जेक्ट के बारे में चर्चाएं करेंगे। इसके बारे में बहुत लोगों को जानकारियां नहीं है। आज आधुनिक जमाने में आधुनिक नए-नए यंत्रों से सब कुछ मुमकिन सा हो चुका है। आज हम नामुमकिन कार्यों को भी मुमकिन कर सकते हैं पिछले जमाने में इतने कुछ संसाधन नहीं थे परंतु आज के टाइम पर हर फील्ड में बदलाव हुआ है। आज हम इस टॉपिक में ठीक ऐसे ही सब्जेक्ट के बारे में बात करेंगे जो काफी उपयोगी साबित हुआ है और फ्यूचर में ओर भी ज्यादा उपयोगी हो सकता है। CVV Number क्या है, जरूरी क्यू होता है, फायदे क्या है, Debit card व credit card में CVV Number कहां होता है? इससे संबंधित जितने भी जानकारियां है उनको हम नीचे विस्तार से और आसान से आसान शब्दों में समझने की कोशिश करते हैं तो चलिए बिना देर करें इसके बारे में प्रत्येक महत्वपूर्ण जानकारी को जानते हैं-

Advertisement

 

CVV Number क्या होता है?

CVV Number जिसका पूरा फुल फॉर्म “card verification value” होता है और इसका हिंदी अर्थ “कार्ड सत्यापन मूल्य है। यह डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड के पीछे लिखे हुए होते हैं। इन नंबर को प्राइवेट रखना चाहिए क्योंकि इसके द्वारा एटीएम का इस्तेमाल करना नामुमकिन है। CVV Number मुख्य रूप से तीन अंको का होता है। इस CVV Number का यूज तब होता है जब ऑनलाइन या टेलीफोन लेनदेन किया जा रहा हो। आमतौर पर जो Visa, MasterCard, Bank Card आदि कार्ड्स होते हैं उन पर यहां CVV Number तीन अंको में देखने को मिलता है किंतु कुछ ऐसे भी कार्ड होते हैं जिनमें चार अंको का भी होता है। इसकी उपयोगिता तब होती है जब डेबिट या क्रेडिट कार्ड की मदद ऑनलाइन पेमेंट किया जा रहा हो। CVV Number इस बात को सिद्ध करता हैं कि जो पेमेंट किया जा रहा है उसके लिए कार्ड धारक स्वयं जिम्मेदार है। यहां ऑनलाइन ट्रांजैक्शन को सिक्योर बनाने में बहुत ही अहम भूमिका निभाता है। CVV Number को अन्य नाम से भी जाना जाता है जैसे- CSC और CVC.

 

CVV Number जरूरी क्यों होता है?

CVV Number सिक्योरिटी के लिए यूज पता है अर्थात जब डेबिट या क्रेडिट कार्ड के द्वारा ऑनलाइन पेमेंट किया जाता है। तब यहां सीवीवी नंबर बहुत आवश्यक होता है जहां एक तरह से प्रमाणीकरण का कार्य करता है। बिना इस नंबर के ऑनलाइन भुगतान नहीं किया सकता जैसे आज के वक्त में तो यहां मान सकते हैं कि हमारे डिवाइस में बैंक से रिलेटेड सभी जानकारियां सेव रहती है किंतु इस सीवीवी नंबर को तो हमें बार-बार दर्ज करना ही पड़ता है। RBI ने इस सीवीवी नंबर को रोकने रखने की विशेष सलाह दी है मतलब इसको किसी के साथ भी शेयर करना गलत है। CVV Number वैसे डेबिट या क्रेडिट कार्ड के पीछे एक मैग्नेटिक स्ट्रिप पर लिखा हुआ होता है। मान लीजिए दोस्तों अगर कभी आपके कार्ड के साथ किसी ने छेड़छाड़ की तब वहां व्यक्ति आपके सीवीवी नंबर के बिना पेमेंट नहीं कर सकता और जिससे आपका बड़ा नुकसान होने से भी बच जाएगा।

 

CVV Number के फायदे क्या है?

CVV Number कुछ प्रमुख फायदे निम्नलिखित है-

• CVV Number आपके द्वारा किए गए ऑनलाइन पेमेंट को सेफ बनता है।
• CVV Number कोबरा आप किसी भी सिस्टम में यूज करते हैं तो यहां उस सिस्टम में किसी भी कीमत पर सेव नहीं हो पता है।
• बात तो यहां भी है कि दोस्तों जो कंपनी डेबिट या क्रेडिट कार्ड जारी करती है उनके पास भी CVV Number का डाटा स्टोर नहीं हो पता है।

 

CVV Number के नुकसान क्या है?

CVV Number के द्वारा होने वाले कुछ नुकसान जैसे-

• CVV Number अगर किसी गलत हाथों में पड़ जाए तो यहां इसका दुरुपयोग कर सकता है।
• आप धोखाधड़ी का शिकार बन सकते हैं क्योंकि आजकल हैकर्स की संख्या निरंतर बढ़ती जा रही है यह समझदार व्यक्ति को भी पल भर में ठग लेते हैं।
• CVV Number अगर किसी को पता चल जाए तो वहां आपके अकाउंट से पैसे निकाल सकता है।

 

Debit card व credit card में CVV Number कहां होता है?

CVV Number मुख्य रूप से Debit card व credit card के पिछले हिस्से पर एक मैग्नेटिक प्लेट पर तीन अंको में लिखा हुआ मिलता है किंतु अमेरिकन एक्सप्रेस कटवार यहां चार अंको में मिलता है। यह कैसा सिक्योरिटी नंबर होता है। जिसको किसी के साथ भी शेयर नहीं करना चाहिए।

 

ATM pin किस प्रकार सीवीवी नंबर से भिन्न है?

एटीएम पिन और सीवीवी नंबर दोनों में बहुत अंतर है एटीएम पिन के द्वारा आप एटीएम से पैसे निकालने के लिए यूज में ले सकते हैं किंतु वही आप सीवीवी नंबर को ऑनलाइन पेमेंट में वेरिफिकेशन के लिए यूज में ले सकते हैं।

➤ यहां भी जानें- Digital Signature-कैसे वर्क करता है,क्यों जरुरी है?प्रकार, जरूरी डॉक्यूमेंट और फायदे बताये।

 

सारांश-

दोस्तों इस आर्टिकल की मदद से आप जान गए होंगे कि CVV Number क्या होता है? आशा करता हूं कि आपको सभी जानकारी पसंद जरूर आई होगी। इन सभी जानकारियों को अपने Friends, Family के साथ जरूर शेयर करें और आपका अगर कोई सा भी कन्फ्यूजन हो तो Comment करके निसंकोच पूछ सकते हैं।
Thank you

 

कुछ FAQ-

Q.1 CVV Number क्या होता है?
Ans. यह डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड के पीछे लिखे हुए होते हैं। इन नंबर को प्राइवेट रखना चाहिए क्योंकि इसके द्वारा एटीएम का इस्तेमाल करना नामुमकिन है। CVV Number मुख्य रूप से तीन अंको का होता है। इस CVV Number का यूज तब होता है जब ऑनलाइन या टेलीफोन लेनदेन किया जा रहा हो।

Q.2 CVV Number का फुल फॉर्म क्या है?
Ans. CVV Number जिसका पूरा फुल फॉर्म “card verification value” होता है और इसका हिंदी अर्थ “कार्ड सत्यापन मूल्य” है।

Advertisement

Leave a Comment