Coaxial Cable क्या है? इसके प्रकार, उपयोग, संरचना, फायदे और नुकसान बताये। हिंदी में-

आज एक ऐसे विषय के बारे में बात करेंगे। जो आपको बहुत यूज में आता है। इसकी मदद से आपके छोटे-छोटे कार्य भी आसानी से मतलब पूरे हो जाते हैं। इस खास विषय को Coaxial Cable कहते हैं। गुजरते वक्त के साथ धीरे-धीरे सभी क्षेत्र में Growth हो रही है। आजकल तो हम सब के पास कई प्रकार की सुविधाएं हर समय तत्पर रहती है जिन्हें यूज़ करना काफी आसान है। आज का विषय Coaxial Cable है। जिसके बारे में आसान शब्दों में जानने की पूरी कोशिश करते हैं। तो आइये Friends बिना समय बर्बाद किए नीचे विस्तार से जानते हैं-

Advertisement

 

Coaxial Cable क्या है?

Coaxial Cable जिसको “coax” नाम से भी जाना जाता है। यहां एक तरह से इलेक्ट्रिकल केबल के रूप में होती है और यहां दो या दो से ज्यादा डिवाइस को कनेक्ट करने में सक्षम है। यहां कॉपर यानी तांबे की बनी हुई होती है और दोस्तों तांबे के उपयोग से यहां पर डाटा का ट्रांसमिट होता है। इसके चारों ओर एक insulator (कुचालक) की परत पाई जाती है। जो तांबे को इंसुलेशन प्रोवाइड करती है। यहां Coaxial Cable कई लंबी दूरी तक हाई फ्रीक्वेंसी सिंगल को ट्रांसमिट कर सकती हैं। इसको सन 1980 में Oliver Heaviside नामक इंजीनियर ने डिजाइन किया था। यह Coaxial Cable अक्सर हमारे घरों में जैसे- TV antenna cables, cable TV, Internet connections में होता है। फाइबर ऑप्टिकल केबल के मुकाबले यहां डाटा ट्रांसफर की स्पीड में कम होती है किंतु twisted pair केबल से बहुत ज्यादा होती है। यहां बिल्कुल फ्लेक्सिबल होती है जिसको मोड़ना भी आसान होता है। इतना ही नहीं इसका खास इस्तेमाल इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर में कस्टमर को इंटरनेट सर्विस प्रोवाइड करने में भी होता है।

 

Coaxial Cable के प्रकार क्या है?

Coaxial Cable मुख्य रूप से दो प्रकार होते हैं चलिए जानते हैं-

1. Thicknet Coaxial Cable-

इस टाइप की Coaxial Cable का ज्यादातर उपयोग दो या दो से अधिक LAN में होता है मतलब LAN को कनेक्ट करके एक बड़ा नेटवर्क क्रिएट किया जाता है। इसकी कोर की कॉपर वायर मोटी होती है। इसकी फ्रीक्वेंसी अधिक होती है यहां 500 मीटर तक सिंपली सिंगल को आसानी से ट्रांसमिट करने में सक्षम है।

2. Thinnet Coaxial Cable-

इस टाइप की Coaxial Cable में इसके इनर कंडक्टर की मोटाई बहुत कम होती है। इसी वजह से इसकी फ्रीक्वेंसी स्पीड भी कम होती है करीब आना 200 मीटर तक सिंगल को सिंपली ट्रांसमिट कर सकती है। इसका इस्तेमाल है दो या दो से कम LAN को कनेक्ट करने में होता है।

 

Coaxial Cable के उपयोग क्या है?

Coaxial Cable के कुछ उपयोग निम्न दिए गए हैं-

1. टेलीविजन में Coaxial Cable का उपयोग किया जाता है।
2. इंटरनेट में भी
3. सीसीटीवी कैमरे में ‌
4. वीडियो ट्रांसमिशन में
5. एचडी टीवी में सिग्नल को एक स्थान से दूसरे स्थान पर पहुंचाने के लिए।
6. इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर (ISP) में कस्टमर को इंटरनेट कनेक्शन प्रोवाइड करने के लिए
7. ब्रॉडकास्ट इंडस्ट्री में Coaxial Cable का यूज ऑडियो एवं वीडियो सिग्नल को ब्रॉडकास्ट करने के लिए होता है।
8. सैटेलाइट कम्युनिकेशन में
9. मेडिकल डिवाइसेस में जैसे- MRI ,CT स्कैनर इत्यादि डिवाइस को चलाने के लिए Coaxial Cable का उपयोग होता है।

 

Coaxial Cable की संरचना के बारे में बताइए?

Coaxial Cable की संरचना चार भागों में विभाजित है चलिए जिनके बारे में नीचे विस्तार से जानते हैं-

1. Conductor (सुचालक)-

यहां सबसे भीतरी भाग होता है और यहां तांबे का बना हुआ होता है इसके द्वारा ही डाटा ट्रांसमिट होता है। अर्थात यह डाटा को इलेक्ट्रिकल सिग्नल के रूप में ट्रांसफर करता है।

2. Insulator (कुचालक)-

यहां कंडक्टर यानी की तांबे के चारों ओर चिपका हुआ होता है। तांबे की सुरक्षा कुचालक के ऊपर ही निर्भर होती है। यहां बिल्कुल एक कवर की भांति तांबे के ऊपर होता है। यह प्लास्टिक से बने हुए होते हैं।

3. Braided mesh (लट जाल)-

यह धातु (copper, aluminum etc.) के बने हुए होते हैं। इनका वर्क ट्रांसमिट होने वाले डाटा को डिस्ट्रॉय होने से बचाना। यहां एक जाली जैसे होते हैं जो इंसुलेटर के चारों तरफ गुथे हुए रहते हैं।

4. Plastic Layer (प्लास्टिक लेयर)-

यह सबसे बाहरी पार्ट्स है। यह बिल्कुल हल्के मटेरियल (Polyvinyl chloride या Teflon)से बने हुए होते हैं। इसका वर्क खासकर Coaxial Cable को सुरक्षा प्रदान करना जिससे कि केवल कोई से भी मौसम या वातावरण में खराब ना हो और लंबे समय तक टिकी रहे।

 

Coaxial Cable के फायदे क्या-क्या है?

Coaxial Cable के कुछ फायदे –

1. Coaxial Cable डाटा व सिग्नल को फास्ट स्पीड में ट्रांसफर कर सकती है।
2. Coaxial Cable को इंस्टॉल करना बहुत ही आसान होता है ज्यादा मुश्किल भरा नहीं होता है।
3. यह केवल हाय बैंडविथ को भी सपोर्ट करने में भी सक्षम है।
4. इन केबलों के द्वारा एनालॉग और डिजिटल सिगनलों को ट्रांसमिट करना संभव है।
5. लंबी दूरी तक डाटा का ट्रांसमिट करने के लिए यह बहुत ही मददगार होते हैं।
6. Coaxial Cable मुख्य रूप से मल्टीपरपज केबल होती है।

 

Coaxial Cable के नुकसान क्या है?

Coaxial Cable के कुछ नुकसान –

1. Coaxial Cable बहुत ही एक्सपेंसिव होते हैं।
2. Coaxial Cable लाइट वेट नहीं होते हैं।
3. सुरक्षा के मामले में कमजोर होते हैं मतलब इनमें डाटा चोरी होने का खतरा बना ही रहता है। कभी भी हैकर्स द्वारा डाटा चोरी होने का पूर्णतः खतरा बना ही होता है।
4. अत्याधिक दूरी पर अगर इनका इस्तेमाल किया जाए तो यह सिग्नल सही तरीके से ट्रांसफर नहीं कर पाते हैं।

➤ यहां भी जानें- MS Paint क्या है? इसके टूल्स, उपयोग, होम स्क्रीन सभी जानकारियां बताये। हिंदी में-

 

सारांश-

दोस्तों इस आर्टिकल की मदद से आप जान गए होंगे कि Coaxial Cable क्या है? आशा करता हूं कि आपको सभी जानकारी पसंद जरूर आई होगी। इन सभी जानकारियों को अपने Friends, Family के साथ जरूर शेयर करें और आपका अगर कोई सा भी कन्फ्यूजन हो तो Comment करके निसंकोच पूछ सकते हैं।
Thank you

 

कुछ FAQ-

Q.1 Coaxial Cable क्या है? in Hindi
Ans. Coaxial Cable जिसको “coax” नाम से भी जाना जाता है। यहां एक तरह से इलेक्ट्रिकल केबल के रूप में होती है और यहां दो या दो से ज्यादा डिवाइस को कनेक्ट करने में सक्षम है। यहां कॉपर यानी तांबे की बनी हुई होती है और दोस्तों तांबे के उपयोग से यहां पर डाटा का ट्रांसमिट होता है। इसके चारों ओर एक insulator (कुचालक) की परत पाई जाती है। जो तांबे को इंसुलेशन प्रोवाइड करती है।

Q.2 Coaxial Cable किसके लिए उपयोग किए जाते हैं?
Ans. Coaxial Cable के कुछ उपयोग –
1. टेलीविजन में Coaxial Cable का उपयोग किया जाता है।
2. इंटरनेट में भी
3. सीसीटीवी कैमरे में ‌
4. वीडियो ट्रांसमिशन में
5. एचडी टीवी में सिग्नल को एक स्थान से दूसरे स्थान पर पहुंचाने के लिए।

Advertisement

Leave a Comment