E-Marketing क्या है? ई-मार्केटिंग के प्रकार और फायदे बताएं।

दोस्तों हम आपको आज E-Marketing के बारे में महत्वपूर्ण जानकारियां बताएंगे। E-Marketing बिल्कुल एक Unique चीज है और आपको इस Technology के जमाने में Technology वाली चीजों के बारे में ज्ञान ज्यादा न सही पर कुछ तो होना ही चाहिए क्योंकि कोई सी भी चीज हमारे कब काम में आ जाए इसका किसी को पता नहीं है। E-Marketing क्या है इससे संबंधित पूरी जानकारियां बिना समय गंवाए हम इस आर्टिकल की मदद से जानने की कोशिश करते हैं –

Advertisement

 

ई-मार्केटिंग क्या है ? (ऑनलाइन मार्केटिंग,डिजिटल मार्केटिंग)

E-Marketing को Electronic Marketing कहते हैं। ई-मार्केटिंग को ऑनलाइन मार्केटिंग,डिजिटल मार्केटिंग या इंटरनेट मार्केटिंग भी कह सकते हैं। इसका उपयोग Electronic Communication Technology (इलेक्ट्रॉनिक संचार प्रौद्योगिकी) के माध्यम से मार्केटिंग के उद्देश्यों को पूरा करने के लिये किया जाता है। इस टेक्नोलॉजी के अधीन इस्तेमाल किये जाने वाले कंपोनेंट्स जैसे- इंटरनेट, ई-मेल, ई-बुक्स, डाटाबेस एवं मोबाइल फोन इत्यादि अत्यधिक भूमिका निभाते हैं।

विभिन्न व्यापारिक संगठन द्वारा खुद के प्रोडक्ट की मार्केटिंग करने के लिये इंटरनेट तकनीकों कि सहायता ली जाती हैं। विशेषकर इसके लिये ऑर्गेनाइजेशन संगठन अपनी ऑर्गेनाइजेशन की वेब साइट तैयार करते हैं तथा अपने प्रोडक्ट के बारे में सम्पूर्ण जानकारी वेबसाइट पर अपलोड करते हैं अपने प्रोडक्ट के बारे में जैसे- फीचर, Prices, Quality आदि जानकारियों को वेबसाइट के माध्यम से अपने User को उपलब्ध कराते हैं।

किसी भी कम्पनी को अपने प्रोडक्ट की मार्केटिंग करने के लिये ज्यादा पैसा खर्च करने की कोई जरूरत नहीं है वर्तमान समय में बहुत सारे ऐसे साधन है जिनका हम कभी भी इस्तेमाल कर सकते हैं। एक बार Website को बनाने के बाद उसे इंटरनेट से वेब सर्वर पर अपलोड करने की आवश्यकता होती है पहले के बाद वक्त में किसी कम्पनी को अपने प्रोडक्ट की मार्केटिंग कराने के लिये अधिक पैसा खर्च करना पड़ता था। आज के जमाने में बहुत प्रकार की तकनीकी सिस्टम हर पल उपलब्ध रहते हैं। E-Marketing इस युग में अत्यंत सरल, सस्ती तथा Attractive सुविधा हो चुकी है।

E-Marketing क्या है? ई-मार्केटिंग के प्रकार और फायदे बताएं।
E-Marketing क्या है? ई-मार्केटिंग के प्रकार और फायदे बताएं।

ई-मार्केटिंग के प्रकार –

ई-मार्केटिंग के कई तरह के प्रकार होते हैं, जिनमें से कुछ प्रकार निम्नलिखित माध्यम से दिए गए हैं –

  1. Email Marketing –

ईमेल मार्केटिंग में ईमेल भी बहुत खास है। ईमेल ऐसा माध्यम हैं जिसके द्वारा यूजर्स को प्रचार या विज्ञापन आसानी से भेजे जाते हैं। ईमेल को एक आसान और सस्ता प्लेटफार्म कह सकते हैं कोई भी कंपनी ईमेल के द्वारा आराम से मार्केटिंग कर सकती है।

  2. Social Media Marketing –

आज के जमाने में सोशल मीडिया काफी ट्रेंडिंग में हैं। ऑनलाइन बिजनेस के लिए सोशल मीडिया एक अच्छा उदाहरण है। कुछ सोशल मीडिया एप्स जैसे- Facebook, Instagram, WhatsApp, YouTube आदि का उपयोग करके कोई भी व्यक्ति कम समय में आसानी से अपने प्रोडक्ट की मार्केटिंग कर सकता है।

  3. Apps Marketing –

मार्केटिंग करने के लिए एप्स मार्केटिंग बहुत अच्छा ऑप्शन है। आज के युग में घर-घर में स्मार्टफोन लगभग सभी के पास है और सभी एप्लीकेशन का इस्तेमाल तो करते ही होंगे इसलिए बड़ी बड़ी कंपनियां का मुख्य उद्देश्य यही है ऐप्स बनवाकर ज्यादा से ज्यादा अपने प्रोडक्ट की मार्केटिंग की जा सके। एप्स मार्केटिंग का एक उदाहरण जैसे-Flipkart.

  4. Affiliate Marketing –

इसमें व्यापारियों को वेबसाइट, ब्लॉग तथा सोशल मीडिया प्रोफाइल्स इत्यादि से बहुत बढ़िया हेल्प मिल जाती हैं। इनके द्वारा उत्पादनों के विज्ञापन भी कर सकते हैं एवं वेतन भी मिल जाता है। उसे ही अफिलिएट मार्केटिंग कहा जाता है।

  5. Search Engine Optimization (SEO) –

ई-मार्केटिंग में SEO भी अच्छा प्रदर्शन करता हैं SEO ऐसा तकनीकी माध्यम है जिसके द्वारा आपकी वेबसाइट सर्च इंजन रिजल्ट में सबसे उच्च रैंक पर हो सकती है फिर आप अपने प्रोडक्ट की ज्यादा से ज्यादा मार्केटिंग कर सकते हैं।

ई-मार्केटिंग के‌ फायदे –

ई-मार्केटिंग के कुछ फायदे निम्नलिखित माध्यम से जानने की कोशिश करते है –

  • इंटरनेट बहुत लोकप्रियता हासिल कर चुका है व इंटरनेट ई-मार्केटिंग का विशेष प्रकार से समर्थन करता है। दुनिया में ग्राहक संबंध बनाने के लिए इंटरनेट बहुत अच्छा माध्यम है और इसकी मदद से किसी भी समय आपका ग्राहक उत्पाद को खरीद या ऑर्डर भी कर सकता है।

  • आप अपने उत्पाद और सेवाओं की बिक्री ई-मार्केटिंग के उपयोग से घर बैठे बिना परेशानी के कर सकते हैं।

  • Facebook, Instagram इत्यादि चीजें काफी प्रसिद्ध है। इन सोशल मीडिया एप्स के सहारे आप आराम से अपने प्रोडक्ट का विज्ञापन दे सकते हैं या फिर प्रचार भी कर सकते हैं।

  • मार्केटिंग करने के लिए ईमेल आपके रजिस्टर्ड ग्राहकों को अपडेट करता है। कोई भी कंपनी ईमेल की मदद लेकर आराम से मार्केटिंग या विज्ञापन कर सकती है।

ई-मार्केटिंग के नुकसान –

ई-मार्केटिंग के माध्यम से कुछ स्थितियों में नुकसान होने की संभावना भी होती हैं आइये दोस्तों निम्नलिखित माध्यम से जानें –

  • ऑनलाइन आकर्षक विज्ञापन अभियान चलाने के लिए आपको पैसे खर्च करने पड़ते हैं।

  • ई-मार्केटिंग के लिए ज्यादातर इंटरनेट की आवश्यकता होती है। कभी-कभी इंटरनेट slow होने की वजह से आपको बड़ी प्रॉब्लम का सामना करना पड़ सकता है।

  • ई मार्केटिंग में ऑनलाइन प्लेटफॉर्म्स, वेबसाइट्स और ईमेल इत्यादि काफी अच्छी साझेदारी निभाते हैं। परंतु आज के समय में आपने साइबर हमले के बारे में तो सुना होगा जिसके द्वारा आपका डेटा चोरी, सिस्टम हैकिंग इत्यादि समस्याएं आ सकती है।

यहां भी जाने-
किसान क्रेडिट कार्ड (KCC) क्या है? KCC Loan का कैसे लाभ ले।

 

निष्कर्ष –

E-Marketing की सारी जानकारी दोस्तों आपको जरूर समझ में आई होगी। मैंने आपको E-Marketing के बारे में जानकारी समझाने की अपनी तरफ से पूरी कोशिश की है।
आशा करता हूं कि आपको इस आर्टिकल के माध्यम से E-Marketing के बारे में जानकारी अच्छी लगी होगी।
इन जानकारियों को अपने friends, family के साथ जरूर शेयर करें और अगर आपका कोई सा प्रश्न है तो निसंकोच Comment करके पूछ सकते हैं।

Thank you

 

E-Marketing से सम्बंधित कुछ FAQ –

  Q.1 ई मार्केटिंग के क्या फायदे हैं ?
  Ans. आप अपने उत्पाद और सेवाओं की बिक्री ई-मार्केटिंग के उपयोग से घर बैठे बिना परेशानी के कर सकते हैं।

  Q.2 ई मार्केटिंग का कौन सा लाभ नहीं है ?
  Ans. ई-मार्केटिंग के लिए ज्यादातर इंटरनेट की आवश्यकता होती है। कभी-कभी इंटरनेट slow होने की वजह से आपको बड़ी प्रॉब्लम का सामना करना पड़ सकता है।

  Q.3 ई मार्केटिंग के चार प्रकार क्या है ?
  Ans. ई मार्केटिंग के चार प्रकार :- Email Marketing, Social Media Marketing, Affiliate Marketing, Apps Marketing.

 

Advertisement

Leave a Comment