रामलला की मूर्ति का रंग क्यों है काला? मूर्ति की खासियत जिसको जानकर आप भी हैरान हो जाएंगे।

अयोध्या में प्राण प्रतिष्ठा सफलतापूर्वक समाप्त हो चुकी है भगवान राम जी सिंहासन पर विराजमान हो चुके हैं। भगवान राम जी की मूर्ति का रंग काला है। दोस्तों आपका मन में अब विचार जरूर उठा होगा कि आखिर प्रभु राम की मूर्ति का रंग काला क्यों है तो दोस्तों हम इस आर्टिकल से इसके बारे में तो जानेंगे साथ में यह भी जानेंगे कि रामलला की मूर्ति किस प्रकार की शिला से बनाई गई है। मतलब की दोस्तों हम आज के आर्टिकल में इन सभी जानकारी को विस्तार से जानेंगे।

Advertisement

 

रामलला की मूर्ति का रंग क्यों है काला?

भगवान राम जी बाल रूप में विराजित है। उनकी मूर्ति बहुत ही आकर्षक एवं खूबसूरत है। साथ में इनके मस्तक पर लगे हुए तिलक से ये बेहद सौम्य मुद्रा में दिख रहे हैं। उनके चेहरे पर एक ऐसी अद्भुत मुस्कान है जिसको देखकर सभी राम भक्तों का हृदय आनंद विभोर हो जाता है। राम जी की मूर्ति का निर्माण श्याम शिला से किया गया है जिसका रंग काला है। जिस शिला से निर्माण किया गया है उसको कृष्ण शिला भी कहा जाता है। शास्त्रों के अनुसार बात करें तो कृष्ण शिला से रामलला की मूर्ति का निर्माण हुआ है उसको बहुत ही खास कहा जाता है। मतलब जिस शिला से प्रभु की मूर्ति बनाई गई है उसकी आयु लगभग हजारों वर्ष है। कहां जा रहा है की मूर्ति को जल से कोई भी नुकसान नहीं है। इतना ही नहीं चंदन रोली इत्यादि चीज लगाने पर भी मूर्ति पर कोई भी प्रभाव देखने को नहीं मिलेगा।

 

रामलला की मूर्ति की खासियत क्या है?

रामलला की मूर्ति की खासियत जिसको जानकर आप भी हैरान हो जाएंगे। रामलला की मूर्ति में बिल्कुल 5 वर्ष के बालक जैसी कोमलता झलक रही है। राम जी की सुंदर छवि में बालत्व, देवत्व और एक राजकुमार तीनों की छवि दिखाई दे रही है। इस सुंदर मूर्ति के वजन की बात करें तो करीब 200 किलोग्राम है। इसके संपूर्ण ऊंचाई 4.24 फिट है और इसकी चौड़ाई करीबन 3 फिट है।

Advertisement

Leave a Comment